Delhi Tracks

Life in Delhi, after returning from US, starting a new venture et al

32 Posts

60084 comments

Sukirti Gupta


Sort by:

India Health Policy, After H1N1 domestic vaccines what’s next

Posted On: 25 Aug, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 2.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

664 Comments

Slave Labor

Posted On: 10 Aug, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

5514 Comments

Random musings on technology from my visit to the US in July

Posted On: 19 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2802 Comments

Spell Bound at the Jagran Forum

Posted On: 5 May, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

1108 Comments

Jagran Forum – Democracy: Challenges of Consensus Building

Posted On: 4 May, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

5 Comments

Jagran Forum – Democracy: Challenges of Consensus Building

Posted On: 4 May, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2745 Comments

Jagran Forum – Democracy: Challenges of Consensus Building

Posted On: 4 May, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

My first look at the IPAD, from Apple

Posted On: 3 May, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

टेक्नोलोजी टी टी में

471 Comments

Is IPL BIG because of Bollywood?

Posted On: 17 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

622 Comments

Ficci Frames: King Khan is Awesome, Female stars only eye candy

Posted On: 16 Mar, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4287 Comments

Page 1 of 41234»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

назартоді расєя велика дєрьовня, якшо так париться і своїм рісскім на територіях інших держав. не кажучи вже про те, що вони не крутять ѐкраїÐýськƒÂ¾ÑŽ мовою фільми в кінотеатрах для наших. Велика Ð8d95”єрьовня. повінстю з тобою згідний, друже

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

என்னது மக்கள் உங்களை போராட சொல்லி பணம் àÂà•Ã Â¯ÂŠÃ Â®ÂŸÃ Â¯ÂÃ Â®Â•Ã Â¯ÂÃ Â®Â•Ã®¿® Â®Â±Ã Â¯Â€Ã Â®Â°Ã Â¯ÂÃ Â®Â•Ã Â®Â³Ã Â®Â¾…? அப்ப யாரு பணம் கொடுத்தலும் போராட்டம் நடத்துவீங்களோ… கூளிப்போராளிகளா நீங்கள்? அது சரி போராடுவதற்கு எதற்கு கோடிக்கணக்கில் நிதி தேவைப்படுகிறது…?

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

we will win my case but it could take up to 6 months beorfe I begin to start recieving my SS check. I have been taking loans out against my checking account so like I told my children I will probably be in jail by June. As of the 26th of this month I will no longer have a drivers license. On top of everything else my husband and I are going to be getting a divorce as soon as I can possibly afford it. I break down in tears a multitude of times per day. I am responsible for my 72 yr old mom and 3 teenage boys sometimes I don't think I can make threw another day. My prayer 2 months ago was to go to sleep and not wake up the next day. I am not suicidal but I am tired of it all. Not sure how much more I can take. The satelite dish is already shut off, the home phone and electricity will be here really shortly. My rent is $850. I now longer own any jewelry or a vehicle or anything else that may have been worth $2 because I have sold or pawned everything. I had a truck but took a title loan out to rent this place and could no longer make the payments so I sold it for amount owed. I used have a lot of jewelry that belonged to my dad, he passed in 2008 but I have sold all of that also. I don't know where to turn or what to do. Even the computer I am on is not mine it belongs to my mom. I had a lap top but sold it a couple months ago. Please help us or point me in a direction to find some help. I hate this I can't believe how my life has turned. I used to be the person people came to for help, not the person begging for help. I don't how to prove to you that things are not only as bad as they sound but worse. But believe me when I say this is truely the absolute lowest point of my life. I can live on the streets but what do I do with my mom and my babiesSincerely,Anjanette

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

...//ஈவ ர அவர கள தனத ச யஜ த அப ம னத த க ட ட ய ள ள ர . க ழ வ ண மண ய ல வ த த 44 ஹர ஜன வ வச யத த ழ ல ள ர கள பண ண ய ர க ப லக ர ஷ ண ந ய ட எர த த ப த , அத பற ற ய ஒர சவ அற க க ய வ ட டவர த ன அந த கன னட பல ஜ ந ய ட ஈவ ர அவர கள //jaisankar jaganathan said...ப ர ய ர ப ர ட ட ஒர பத வ ட ண ட ப ட ட அத ந ன பட க கன ம . அத ல ம அந த கன னட பல ஜ ந ய ட ங க ற ஜ த ப ர ஏன இங க அழ த தம ச ல ல ற ர // //க ழ வ ண மண ய ல நடந த பட க ல ய ப ர ய ர ஆதர த த ம த ர ட ண ட ர ல வ ட ர ர . இப பட ய வ ட ட - ந ன ச ன னத ய ர ம எத க கல, ப த த ங கள 'ன ன "க யபல ஸ ' ப ரச ச ரத த ஆரம ப ச ச ட வ ங க. அதன ல, உண ம என னன ன ப ர ப ப ம :1. ப ர ய ர எந த எடத த ல ம க ழ வ ண மண பட க ல ய ஆதர க கவ ல ல .2. இதன வன ம ய கண ட ச ச த ன எழ த இர க க ர . அத த த ன 'சவ அற க க 'ன ன மழ ப ப ற ர ட ண ட .3. ம க க யம க 'ச த ம தல கள க க ' ம லக க ரணம க ப ர ப பனர கள இர ப பத ய ம ப ர ய ர ச ட ட க க ட ட ய ர க க ற ர ."ஜனந யக ஆட ச உள ளவர ய க க யர மற ந த ப க வ ண ட யத த ன ; அய க க யர கள ஆட டம ப டவ ண ட யத த ன . இந த ய தர மம க ற றப பரம பர யர கள தர மம ய க ம . மந தர மவ த கள உள ளவர ந ட - ஒழ க கம , ந ர ம , ந ணயம , ந த ப ற ம ட ய த . வ ள ள யன வ ள ய ற யவ டன ந ட அய க க யர கள வசம க வ ட டத ." என ற அற க க ய த டங க ய ள ள ர ப ர ய ர . த டர ந த வ ட தல க க ப றக ஆர .எஸ .எஸ ச ய த பட க ல , வன ம ற கள பட ட யல ட ட கட ச ய ல க ழ வ ண மண ய ல நடந த பட க ல ய கண ட க க ற ர . அத ல ஒர இடத த ல "ஒன ற ப ர ப பனர , இல ல வ ட ட ல தம ழர அல ல தவர , இல ல வ ட ட ல ப ர ப பன த சர தவ ர, வ ற ய ர ம பதவ க க வரம ட ய தத னத தன ம ய ல அரச யல சட டம , நடவட க க இர ப பத ல , என ற ன ற ம த ர த த ம ட ய தத தன ம ய ல 'ஜனந யக ஆட ச தர மம ' இர ந த வர க றத ." என க ற ர .இதற க ஒர த ர வ க "தம ழ ந ட 'தன ம ழ ச ச தந த ரம ள ள ந ட க' ஆக கப பட வ ண ட ம " என ற ம க ற க ற ர .கட ச ய ல "Patriotism is the last regufe of a Scoundrel - த ச பக த என பத அய க க யன ன கட ச ப ப கல டம - ஜ ன சன " என ற ம ட க க ற ர .ட ண ட ச ன னம த ர " ந ய ட " ச த க க ஆதரவ க எத வ ம இல ல . ம ற க - எல ல ச த வ ற யர கள ய ம கண ட ப பத ப ல க ழ வ ண மண க ல க ரர கள ய ம கண ட க க ற ர .இத ல எந த இடத த ல //ஈவ ர அவர கள தனத ச யஜ த அப ம னத த க ட ட ய ள ள ர //ன ன ப ர யவ இல ல .இந த அற க க 28.12.1968 அன ற 'வ ட தல 'ய ல வ ள ய க ய ள ளத .ப ர ப பனர கள டம எச சர க க ய இர க கன ம - இல ல ன ன அண ணல அம ப தகர அவர கள ஆர .எஸ .எஸ 'ல ச ர த த ம த ர தந த ப ப ர ய ர ய ம ச த த ட வ ங க.

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

I really can't comment on these designers claim sukirti, that how much they are paying to their workers,but yes if we talk about the issue that white collar workers are getting same as factory workers i completely agree. Office workers – salary based workers who where historically in management worked for salaries. A fixed wage for a fixed number of hours. My father constantly reminds me that in his day office workers only worked from 9am until 4.30pm. That tradesman and factory workers were the only people who did extra hours. And they did this to make up for the pay discrepancy which was favour of salary workers. Clearly times have changed. If you are working in a large corporate, cubicle farm, in front of a screen or any place where you don’t get your hands dirty then chances are your are part of the ever growing white collar underclass. Here’s the some of stuff that defines members of the White Collar Underclass: 1.A fixed salary with no overtime (factory workers, tradesman, retail staff all have overtime) 2.Regularly working beyond the ‘official hours’ including weekends. 3.It is expected that you arrive before and leave after your official hours. 4.No representation in your industry to protect employment conditions. 5.No tax benefits or uniform allowances, because your work clothing doesn’t have a logo on it. Even though it is in real terms a ‘uniform’ and costs you 10 times what hands on workers wear to work. 6.Your annual performance review is based on the subjective assessments of your direct manager who may or may not like you. 7.You work in a large building full of people who look and act like you do, and no one really knows what anyone else does. 8.In an economic downturn, you panic, because you know what you do is essentially expendable. 9.Large parts of your day are dealing with procedure, invented by other workers to justify their own existence. 10.You look at a screen for large parts of your day, but have restrictions on what information you can bring onto the screen from the outside world. 11.You feel as though your rarely use the skills acquired in the formal education you needed to get that job. 12.You can work for days, weeks and months without any physical evidence of tangible outputs of what you have done. You don’t make or fix anything real. A group of people who have been victimized by efficiency. A group of people who don’t do anything real. Which is why there will be a significant value shift and higher pay going to people (like tradesman) who make stuff. Simple supply and demand. In the past 50 years companies have became so good at what they do, that very few people really do anything, including us. But we are giving so much of our time… we know it, and it eats at our soul.

के द्वारा:

के द्वारा: shweta shweta

के द्वारा: Agastee Agastee

के द्वारा: karanseth karanseth

के द्वारा:

के द्वारा:

सुकीर्ति जी तब तो बहुत हद तक आपके हिंदी प्रेमी होने का श्रेय आपके माता पिता को है , और बहुत बहुत धन्यवाद आप और आपके परिवार द्वारा हिंदी के विकास के लिए ऐसे प्रयास करने के लिए , आपसे एक मजेदार घटना शेयर करना चाहता हु , जब मै bsc में था तो साथ में एक लड़की थी जिसका नाम सुकीर्ति सिंह था ,और वो डीपीएस की स्टुडेंट रही थी हिंदी समझती थी पर न तो बोलना पसंद करती थी और न ही बोलती थी उसे ये लोकल लगता था ,,,,इसलिए थोड़ी बात ही हो पाती थी . उसकी फ्रेंड्स ने मुझे बताया वो हिंदी पसंद नहीं करती है ..... एक दिन मैंने उससे कहा सुकीर्ति अपने नाम का अर्थ बताओ ..उसे पता नहीं था ,मैंने उससे अर्थ बताया , फिर मैंने कहा अपना नाम एक पेज पर लिखो , उसने इंग्लिश में लिख दिया sukirti फिर मैंने कहा इससे हिंदी में लिखो ,उसने झिझकते हुए और बुरा सा मूह बनाते हुए सुकीर्ति लिखा ,, मैंने कहा अब ये बताओ दोनों में कौन सा देखने में ज्यादा सुन्दर लग रहा है और तुम्हारे नाम का अर्थ बता रहा है ...वो हस दी और हमारी बात समझ गई थी ...फिर मैंने उससे कहा जैसे हमारा परिवार समाज संस्कृति हमारे लिए अनमोल है वैसे ही हमारी भाषा भी है क्यों की ये परिवार समाज संस्कृति जिस भावना से बंधे हुए है उनका आधार हमारी मात्र भाषा ही है .. इंग्लिश जरुरी है ,मगर खुद को भूल कर नहीं ...और फिर हम दोस्त हो गए ,और उसने हिंदी पढनी शुरु कर दी ...माफ़ी चाहता हु कहानी लम्बी हो गई .....आपका नाम देख कर याद आ गई ये घटना ...हम सभी जागरण परिवार को इस प्रयास के लिए और आपको विशेष रूप से हार्दिक धन्यवाद और शुभकामनाये देते है ..

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

के द्वारा: karanseth karanseth

सुकीर्ति जी, भारत में पुलिस के व्यवहार के विषय में अलग-अलग अनुभव सामने आते हैं. अमूमन पिछड़े कहे जाने वाले राज्यों में पुलिस अभी भी सामंतवादी सिस्टम के अनुकूल व्यवहार करती है. यदि बिहार और उत्तर प्रदेश का उदाहरण लें तो यहाँ पर पुलिस का रवैया अपराध को इग्नोर करने का होता है. आमतौर पर गरीब व कमजोर लोगों के मामलों पर पुलिस की चुप्पी, यहाँ तक कि निरपराध को ही दोषी ठहरा कर बंद कर देने के वाकए होते ही रहते हैं. गावों की हालत और भी चिताजनक है जहाँ पुलिस का दुरुपयोग स्थानीय स्टार पर जमकर होता है. यानी समस्या पुलिस प्रणाली से अधिक हमारी खराब होती राजनीतिक व्यवस्था है जहाँ पर अपने स्वार्थों को पूरा करने के लिए सत्ता पक्ष हो या अन्य राजनीतिक दल या दबंग लोग, सभी जायज-नाजायज मांगों को पूरा करवाने के लिए पुलिस पर दबाव व प्रलोभन की नीति अपनाते हैं. हाँ, दिल्ली या मेट्रो शहरों की बात और है जहाँ पर सामान्य जन की जागरूकता अधिक होती है और पुलिस व्यवस्था को एक सीमा तक दुरुस्त रहना ही होता है.

के द्वारा:




latest from jagran